आखिर क्या होता है नाखूनों पर आधे चाँद का मतलब? इसके फायदे ऐसे के रह जाएंगे आप दंग

2 months ago Mahima Nigam 0

भगवान ने  इंसानों की रचना कैसे और क्या सोचकर की है इसका अंदाजा तो शायद ही कोई लगा पाए| लेकिन एक बात तो तय है कि हमारे शरीर में जितने  भी अंग है उनका अपना ही महत्व है| अगर हम अपने शारीरिक अंगों को ध्यान से देखें, तो कभी-कभी अचंभा होता है कि कुदरत ने कितनी कमाल की चीज बनाई है। हर शरीरिक अंग को बनाते हुए काफी बारीकी से काम किया है।

हमारे शरीर पर मौजूद विभिन्न शरीरिक अंगों में से हमारे हाथ-पांव काफी महत्वपूर्ण माने गए हैं। वैसे तो हर एक शारीरिक अंग का अपना महत्व एवं जरूरत है, लेकिन अगर हाथ-पांव की बात करें तो इनकी भूमिका हमारी लाइफ में छोटी नहीं है।लेकिन आज हम यहां हाथ-पांव की नहीं, उन पर बने नाखूनों के बारे में एक रोचक जानकारी आपके साथ बांटने आए हैं। नाखून हाथों-पैरों को ‘सम्पूर्ण’ बनाते हैं, ये उनकी खूबसूरती भी बढ़ाते हैं।हर किसी के नाखून अलग-अलग प्रकार के होते हैं। फिर चाहे वे हाथ के हों या पांव के, इनके आकार और साइज में फर्क होता है। लेकिन एक चीज जो कॉमन है, वो है इन नाखूनों पर बना अर्धचंद्राकार। हमारे हाथ की अंगुली की त्वचा के खत्म होते ही जहां से नाखून बनना आरंभ होता है, ये चंद्राकार ठीक वहीं बना होता है।
इसे अंग्रेजी में लून्यल कहा जाता है| यह निशान हर किसी के नाखून पर होता है। हाथ की अंगुलियों पर और पांव की अंगुलियों के नाखूनों पर भी सफेद चंद्राकार को बना हुआ आप देख सकते हैं। लेकिन इसके होने का क्या मतलब है?

नाखून पर बने इस चंद्राकार निशान के बारे में कहते हैं कि ये असली में सफेद रंग का नहीं होता। यह नाखूनों की वजह से सफेद रंग का दिखाई देता है। असल में इस निशान के नीचे ही परत से जुड़े तत्व पाए जाते हैं, लेकिन इसकी वजह से वे ढंक जाते हैं। यह निशान हर किसी को अपने नाखून पर दिखाई भी नहीं देता। नाखून के नीच यह निशान होता तो जरूर है, लेकिन कई बार इतना हल्का होता है कि दिखता नहीं है।

लेकिन अगर नाखून आगे से टूटा है तो यह निशान बच जाता है। आगे से नाखून भले ही अलग हो जाए, लेकिन ये निशान वहीं का वहीं सलामत रहता है।लेकिन इस चंद्राकार निशान के असली उद्देश्य की बात करें, तो विशेषज्ञों की राय में ये हमारे हेल्थ की जानकारी देता है। हमारा शरीर कितना मजबूत है, इसके बारे में बताता है।

नाखून पर बने चंद्राकार निशान की एक और रोचक बात है और वो यह कि यह पूर्ण रूप से हाथ के अंगूठे के निशान पर ही दिखता है। अगर आपके अंगूठे के नाखून पर यह दिखाई देता है, तो आप यह जांच सकते हैं कि यह अन्य अंगुलियों के नाखून पर बेहद कम दिखता है।लेकिन इस चंद्राकार निशान के असली उद्देश्य की बात करें, तो विशेषज्ञों की राय में ये हमारे हेल्थ की जानकारी देता है। हमारा शरीर कितना मजबूत है, इसके बारे में बताता है।

यह निशान अगर किसी के हाथ के नाखून पर पूरी तरह दिखता है, तो वह इंसान स्वस्थ है। लेकिन इसका कम होना या ना के बराबर दिखना उस व्यक्ति के बीमार होने के बारे में बताता है। ऐसा व्यक्ति शारीरिक रूप से कमजोर होता है और उसकी पाचन शक्ति भी कमजोर होती है।