मां एक ऐसी शक्सियत है जिसको भगवान समान दर्जा दिया जाता है| कहा जाता ही कि मां हमेशा अपने बच्चों का भला चाहती है, उनके उज्जवल भविष्य के लिए हमेशा प्रयास करती रहती है, अच्छी सीख देती है, अच्छे कर्मों को करने का ज्ञान भी देती है लेकिन आज के कलयुगी दौर में ऐसी भी माँ है जो अपने बच्चों को दुष्कर्म और दूसरों की जान लेने के कर्म करने की घिनौनी राह में भेजना चाहती हैं|

आपने ISIS में भारत वासियों की भर्ती कराने की खबरें तो खूब सुनी होगी। लेकिन कभी सुना है कि कोई महिला अपने बच्चों को आईएसआईएस में भर्ती कराना चाहती हैं। जी हाँ, आपने बिल्कुल सही पढ़ा, दरअसल बंग्लादेश की रहने वाली जोया चौधरी का सपना है कि उसके बच्चे बड़े होकर आतंकवादी संगठन आईएसआईएस में भर्ती हों। बता दें कि जोया चौधरी ने साल 2004 में अमेरिका के रहने वाले जॉन जॉर्जेलस(John Georgelas) से शादी की थी। पहली बार जोया जॉन से एक ऑनलाइन वेबसाइट के जरिए मिली थी। जॉन ने उससे पहले ही अपने आपको इस्लाम धर्म में परिवर्तन कर लिया था। इस्लाम से जुड़ने के बाद जॉन का नाम याह्या अबू हसन (Yahya Abu Hassan) हो गया। बता दें कि जॉन के पिता अमेरिकी वायु सेना में डॉक्टर के रूप में काम कर चुके हैं।

जॉन के परिवार को इस बात की खबर तब मिली जब उसने 2001 में इस्लाम को अपनाया। बता दें कि 9/11 के हमलों के बाद जॉन ने इस्लाम धर्म अपनाने का फैसला किया था। उस दौरान जॉन टेक्सास कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था। इसके बाद मुस्लिम डेटिंग वेबसाइट पर 2003 में जॉन की मुलाकात बंग्लादेश की रहने वाली जोया चौधरी से हुई और 2004 को दोनों ने शादी कर ली।

जॉन ( याह्या अबू हसन) आज आईएसआईएस के आतंकी है। इसके साथ ही वह इराक और सीरिया के आतंकवादी समूह में नए युवाओं को जोड़ने का काम भी करता है। अमेरिका में रहने के दौरान जोया चौधरी और जॉन पर कट्टरपंथी इस्लामी प्रचारक होने का आरोप लगा था। जिसके बाद वह इंटरनेट होस्टिंग कंपनी डलास में काम किया था जिसके तहत वह ऑनलाइन अल-कायदा समर्थकों को जोड़ता था।

 

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account