देश के सभी 5 स्टार होटल्स से हटेगा बाथटब, ये है इसकी सबसे बड़ी वजह!

2 months ago admin 0

आमतौर पर बाथटब को पांच सितारा होटलों में जरूरी सुविधा से जोड़कर देखा जाता है| लेकिन ताज, ओबेराय, आईटीसी से लेकर फाइव-स्टार होटल के सभी बड़े ग्रुप अपने होटलों में बाथटब की सुविधा की मूल्यांकन कर रहे हैं| इनके ऐसा करने से यह उम्मीद की जा रही है कि बहुत जल्द ही पांच सितारा होटलो से बाथटब गायब हो सकते हैं| पांच सितारा होटल इसके बदले शॉवर बाथ की सुविधा देने के बारे में विचार कर रहे हैं|बता दें, 24 फरवरी को दुबई के एक पांच सितारा होटल में बाथटब में डूबने से श्रीदेवी की मृत्यु हो गई थी|

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार, ताज, ओबेरॉय और आईटीसी के साथ सभी बड़े उद्योग खिलाड़ी अपने पांच सितारा गुणों में बाथरूम कॉन्फिगरेशन का पुनः मूल्यांकन कर रहे हैं| आपकों बता दे, कि, यह उन यात्रियों को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिया जा रहा है जो अच्छी सुविधा के साथ जल्दी बाथ लेना पसंद करते हैं| इसके अलावा, इस कदम को उन नियमों में बदलाव से देखा जा रहा है, जिसमें कहा गया है कि पांच सितारा होटल में बाथटब जैसी सुविधा की जरूरत नहीं है|


जानकारी के लिए बता दे, कि शॉवर सुविधा का रुझान मोटे तौर पर बेंगलुरु के नोवेटेल, मुंबई के ताज, विवांता जैसे बड़े होटलों में देखा जा रहा है| हालांकि, जयपुर के फेयरमोंट और केरला के ताज कुमारकम जैसे लग्जरी जगहों पर बाथटब की सुविधा मिलती रहेगी| बता दें कि मैरियट और हिल्टन जैसे होटलों ने पहले से ही बाथटब जैसी सुविधाएं बंद कर रखी हैं|वहीं, देश में 30 से ज्यादा होटल चलाने वाले ओबेराय ग्रुप के मुताबिक, उसके होटलों मे दस प्रतिशत से भी कम में बाथटब का उपयोग होता है|

ओबरॉय प्रवक्ता के मुताबिक, हम अपने आगामी प्रोजेक्ट के लिए बाथटब की जरूरत पर विचार कर रहे हैं| वहीं, आईटीसी के सीईओ दीपक हासकर के मुताबिक होटल कारोबार से जुड़े नियमों के बदलने से बाथरूम में काफी जगह बचेगी और इसे आधुनिक बनाया जा सकेगा| एक्कोर होटल्स के वाइस प्रेसिडेंट शिव कश्यप के अनुसार, बाथटब हटने से पानी का बचत भी होगा| बाथटब में एक व्यक्ति के इस्तेमाल के लिए करीब 370 लीटर पानी का नुकसान होता है, वहीं शॉवर बॉथ से सिर्फ 70 लीटर में काम चल जाता है| इसके अलावा बाथटब ज्यादा स्पेस भी लेता है|