B’day Spl: एक रिएलिटी शो से बदली इस सिंगर की किस्मत, संजय लीला भंसाली की मां ने की थी सिफारिश

1 month ago Vivek Rai 0

रुहानी आवाज की मल्लिका श्रेया घोषाल का जन्म 12 मार्च 1984 को राजस्थान के रावतभाटा में हुआ था। श्रेया घोषाल आज अपना 34 वां जन्मदिन मना रही हैं। श्रेया ने बेहद कम वक़्त में शोहरत की जिन बुलंदियों को पा लिया है उसकों पाने के लिए और लोगों काफी वक़्त लगता है। अपनी जादुई आवाज के बदौलत अभी तक श्रेया ने कई अवार्ड्स अपने नाम किए है।श्रेया ने अब तक लगभग 200 से ज्यादा फिल्मों में अपनी आवाज दी है।

बता दे, कि श्रेया घोषाल के पिता भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में नाभिकीय ऊर्जा संयंत्र इंजीनियर के रूप में काम करते हैं, जबकि उनकी मां साहित्य में पोस्ट ग्रेजुएट हैं और घर संभालती हैं। श्रेया घोषाल ने महज 4 वर्ष की उम्र से ही गाना शुरू कर दिया था। उन्हें उस समय बड़ा ब्रेक मिला जब जी टीवी के शो  ‘सा रे गा मा पा’ का खिताब जीता। शो ‘सा रे गा मा पा’ को फेमस गायक सोनू निगम, और कल्याण जी जज कर रहे थे। उन्होंने ही श्रेया के माता-पिता को मुंबई आने के लिए राजी किया। इसके बाद श्रेया ने 18 महीनों तक कल्याण जी के साथ संगीत की शिक्षा ली और क्लासिकल म्यूजिक ट्रेनिंग भी जारी रखी।

आपकों बता दे, कि साल 2002 में श्रेया घोषाल को फिल्मों के लिए गाने का पहला मौका संजय लीला भंसाली ने अपनी फिल्म ‘देवदास’ में दिया। फिल्म ‘देवदास’ के गाने ‘बैरी पिया’, ‘छलक-छलक’, ‘डोला रे’, ‘सिलसिला ये चाहत का’ और ‘मोरे पिया’ के जरिए श्रेया ने सभी का मन मोह लिया। इस फिल्म के लिए श्रेया के गाए हुए गाने इतने हिट हुए कि वह हर किसी के दिलों पर राज करने लगीं। आज अपने इन्हीं सुरीले गीतों की वजह से वह बड़ी से बड़ी पार्श्व गायिकाओं की सूची में शुमार हो गईं है लेकिन यह बात बहुत कम लोगों को पता है कि संजय लीला भंसाली की मां ने श्रेया को टीवी पर गाते हुए देखा और उन्होंने ही संजय को श्रेया का नाम रिकमंड किया था। मां के कहने पर भंसाली ने श्रेया को गाने के लिए बुलाया और उसके बाद श्रेया की झोली में ‘बैरी पिया’ गाना आ गया।

मशहूर गायिका लता मंगेशकर को अपना आदर्श मानने वाली श्रेया घोषाल ने सिर्फ़ हिंदी मे ही नहीं बल्कि तमिल, तेलुगू, मलयालम, कन्नड़, गुजराती, मराठी, और भोजपुरी भाषाओं के गीतों में भी अपनी सुरीली आवाज दिया है। श्रेया घोषाल ने अपने बचपन के फ्रेंड शिलादित्य मुखोपाध्याय से साल  2015 में शादी की। श्रेया को खाली समय में घूमना और किताबें पढ़ना बेहद पसंद है।