‘ये है मोहब्बतें’ सीरियल ने इन दिनों टीआरपी के मामले में सभी सीरियल को पीछे छोड़ दिया है। इस सीरियल में आए नये-ट्विस्ट लोगो को बहुत पंसद आ रहा है साथ ही इस शो में इन दिनों सिम्मी के अलावा एक नए विलन की एंट्री हुई है। जो लोगो को काफी पंसद आ रहा है। जब से इस शो में नये विलन की एंट्री हुई है तब से इशिता की मुश्किलें बढ़ गई है।

आपको बता दें कि, जितना लोगो इशिता को प्यार करते है। उससे थोड़ा कम इस शो की पूरी स्टार कास्ट को प्यार करते है। ये बात जानकर आपको भी हैरानी होगी कि हमारे समाज में आज भी धर्म को लेकर भेद-भाव किया जाता है और सिर्फ गरीब लोगो के साथ नहीं बल्कि स्टार को भी धर्म की वजह से कई सारी परेशानियों का समना करना पड़ता है।

दरअसल, ‘ये हैं मोहब्बते’ सीमी उर्फ शिरीन मिर्जा इन दिनों काफी परेशानी है क्योंकि उन्हें मुबंई जैसे शहर में घर मिलना मुश्किल हो रहा है क्योंकि वो मुस्लिम है। ये बात सुनकर आप भी हैरान रह गए ना कि इतने बड़े शहर में और एक जानी-मानी एक्ट्रेस को सिर्फ मुस्लिम होने की वजह से घर नहीं मिल रहा है। आपको भी गुस्सा आ रहा है ना कि हम कैसे समाज में रह रहे है जहां आज भी धर्म के नाम पर लोगो के साथ भेद-भाव किया जाता है।

शिरीन ने  सोशल साइट पर एक पोस्ट डाली है जिसमें उन्होंने लिखा है। ‘मैं मुंबई में एक घर के लायक नहीं हूं क्योंीकि मैं MBA हूं – मुस्लिम, बेचलर, एक्ट र।’ शिरीन ने आगे लिखते हुए बताया, ‘यह फोटो तब की है, जब मैं मुंबई में रहना का सपना लेकर इस शहर में आई थी और आज लगभग 8 साल इस शहर में बिताने के बाद मुझे क्याे सुनने को मिलता है… सबसे पहली बात, हां मैं एक एक्टेर हूं और मैं न शराब पीती न स्मो किंग करती और कोई क्रिमिनल केस भी मुझपर नहीं है। तो आखिर वह सिर्फ मेरे प्रोफेशन के आधार पर मेरे चरित्र को तय कर सकते हैं? दूसरी बात, मैं सिंगल हूं और जब भी ब्रोकर को कॉल करती हूं वह मुझसे ज्यारदा किराया मांगते हैं कि जब तक सिंगल हो तुम्हेंक ज्यांदा पैसा देना होगा। मेरा सवाल है कि बदमाशी तो परिवार भी कर सकता है??? तीसरी बात, मैंने तीसरे व्य क्ति को फोन किया तो उसने मुझसे पूछा कि मैं हिंदू हूं या मुस्लिम और फिर कहा, मुस्लिमों को नहीं दे रहे हैं। उन्हों ने मुझे सलाह दी कि अपने किसी दोस्तक के नाम से फ्लेट ले लो जो मुस्लिम न हो।’ मुझे समझ नहीं आ रहा कि नाम में क्या  रखा है? हमारे खून में तो कोई फर्क नहीं है।’ शिरीन ने आगे लिखा, ‘एक शहर जो कभी नहीं सोता वहां घर खरीदना या किराए पर लेना.. एक शहर जो खुद के सभी धर्मों का सम्माखन करने के चरित्र के चलते जाना जाता है, वह धर्म, प्रोफेशन और आपके वैवाहिक स्थिति के आधार पर भेदभाव करता है। मैं यह देखकर हैरान हूं कि जिस शहर ने मुझे इतना कुछ दिया है और जिसे मैं ‘आमची मुंबई’ कहते हुए नहीं थकती, उसके पास आज मेरे लिए जगह नहीं है। कई बार न सुनने के बाद भारी मन से मैं बस यही कहना चाहुंगी, क्यान मैं इस शहर से जुड़ी हुई हूं?

 

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account